न्याय

भारत जोड़ो न्याय यात्रा भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के नेता राहुल गाँधी की भारत को जोड़े रखने की मुहिम है जिसमें न्याय के ज़रिये गरीब, मज़दूर, किसान, महिलाएँ, नौजवान, पिछड़ा वर्ग, दलित, आदिवासी, अल्पसंख्यक वर्ग की चुनौतियों और संघर्ष को समझने और उनके समाधान ढूँढने का प्रयास है.

यह यात्रा वर्तमान केन्द्र सरकार की ग़लत जनविरोधी नीतियों के ख़िलाफ़ शुरू की गई है, जिससे परेशान होकर हर वर्ग और पूरा देश ही ख़ुद को बदतर स्थिति में पा रहा है. युवाओं को रोज़गार नहीं मिल रहा, किसान खेती से पेट नहीं भर पा रहा है. देश के संसाधन और सरकार में चंद ही लोगों की हिस्सेदारी है. हर नागरिक की आवाज़ सुनने और उसके अधिकारों की रक्षा करने वाले संविधान को कम किया जा रहा है, जैसा कि हम मणिपुर में देख सकते हैं.

और पढ़ें

पाँच न्याय

युवा

भागीदारी

नारी

किसान

श्रमिक

न्याय संग्रह के लिए कुल दान

0

दान करें

पंजीकृत न्याय योद्धा

0

न्याय योद्धा बनें

वर्तमान स्थान

मध्य प्रदेश

लाइव देखें
बनें

न्याय योद्धा

98918 02024 पर मिस्ड कॉल करें

यादगार पल

नया वीडियो

भारत जोड़ो न्याय यात्रा क्यों ?

Bharat Jodo Naya Yatra
आर्थिक न्याय

हर भारतीय युवा को ऐसे रोज़गार मिलें जो उनकी आकांक्षाओं को पूरा करें। बढ़ती असमानता का अंत हो जो अमीरों को और अमीर और गरीबों को वंचित बना रही है।

Bharat Jodo Naya Yatra
सामाजिक न्याय

श्री राहुल गांधी के साथ आपके यात्रा की यादें

Bharat Jodo Naya Yatra
राजनीतिक न्याय

डॉ. बाबासाहेब अंबेडकर के भारत के दृष्टिकोण को संविधान में संरक्षित रूप में बनाए रखना और सभी भारतीयों की गरिमा और सम्मान की सुरक्षा करना।

आप कैसे जुड़ सकते हैं ?

Bharat Jodo Naya Yatra
  • यात्रा सभी के लिए है, आप भी जुड़ सकते हैं।
  • यदि आप यात्रा मार्ग के आस पास रहते हैं तो काफिले के साथ चलें।
  • न्याय योद्धा बनें और न्याय की इस लड़ाई में भाग लें।
  • हमारी वेबसाइट और सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म से जुड़ें और यात्रा का संदेश जन जन को दें।

अन्याय काल के दस साल

Anyaay Kaal Ke Das Saal

पिछले दस सालों में भारत के हर वर्ग के साथ अन्याय और अत्याचार हुए हैं. नरेन्द्र मोदी सरकार के दस साल अन्याय काल की तरह देखे जा सकते हैं. जनविरोधी नीतियाँ, झूठ, अलोकतांत्रिक कार्रवाइयाँ, विभाजनकारी गोड़सेवादी एजेंडा, दमन की प्रवृत्ति इन दस सालों में साफ़ दिखलाई पड़ती है. देश के साथ ये आर्थिक और सामाजिक अन्याय महिलाओं, नौजवानों, किसानों और श्रमिकों के साथ हो रहा है, ख़ास तौर उन लोगों से जो आदिवासी, दलित, पिछड़े, अन्य पिछड़े और अल्पसंख्यक वर्गों से आते हैं. इसके कारण 140 करोड़ भारतीयों के जीवनयापन, तरक़्क़ी, सुरक्षा, स्वास्थ्य, शिक्षा, रोज़गार, प्रतिनिधित्व और भागीदारी को लेकर गंभीर चुनौतियाँ और सवाल खड़े हुए हैं.

और पढ़ें

न्याय समाचार

भारत जोड़ो न्याय यात्रा मार्ग

Bharat Jodo Naya Yatra
मणिपुर से मुंबई
0
+
कि.मी.
0
राज्य
0
दिन