राहुल गांधी- हम किसानों को MSP की गारंटी देते हैं

भारत जोड़ो न्याय यात्रा का 31वां दिन छत्तीसगढ़ के उदयपुर स्थित सुरगुजा से शुरू हुआ। ये एक आदिवासी बहुल इलाका है। न्याय यात्रा के स्वागत में हजारों लोग सड़क पर खड़े थे। भीड़ इतनी थी कि न्याय यात्रा के बस को रास्ता नहीं मिल रहा था। न्याय यात्री और कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने फिर से रोड शो का रास्ता चुना और भीड़ के बीच से लोगों से मिलते हुए चले। लोगों में उत्साह का आलम ये था कि जैसे जैसे न्याय यात्रा का काफिला और राहुल गांधी नजदीक आते लोग जोर-जोर से नारे लगाने लगते। लोगों के इस उत्साह को देखकर अपनी यात्रा के शेड्यूल को बदलते हुए श्री गांधी ने माइक हाथ में थाम लिया। चूंकि राहुल गांधी अब लोगों को जीप से ही संबोधित कर रहे हैं तो लोगों का उनके प्रति उत्साह और भी ज्यादा बढ़ गया है।

आज फिर अपने संबोधन के दौरान श्री गांधी ने एक आदिवासी भाई को अपने साथ बिठा लिया और उनसे बातें की। इसके बाद तीन छोटी बच्चियां उनसे मिलने के लिए मचल रही थी तो उन्हें जीप पर बुला लिया। बच्चियों के साथ कुछ हल्के फुल्के सवाल जवाब का सिलसिला हुआ। भाषण के दौरान राहुल गांधी लोगों से सीधा संवाद कर रहे हैं। ये उनकी यात्रा की विशेष पहचान बन चुका है।

आज के संवाद में श्री गांधी एक आदिवासी भाई को जीप पर बुलाया और उनसे आदिवासी शब्द का मतलब पूछा। फिर अपने संबोधन में उन्होंने आदिवासी के बारे में विस्तार से बताते हुए केंद्र सरकार पर हमला बोला। उन्होंने कहा- ‘आदिवासी जंगल में रहते हैं उनको जंगल, जल और जमीन की जरूरत है। आदिवासी को आदिवासी इसलिए कहा जाता है क्योंकि यहां पर जो भी था, जल, जंगल, जमीन सभी के आप पहले मालिक हो। हिंदुस्तान के आप पहले मालिक हो। बीजेपी ने एक टर्म निकाला- वनवासी। वनवासी का मतलब होता है आप हिंदुस्तान के पहले मालिक नहीं हो, आपको जंगल में रहना है , आपको जंगल से बाहर नहीं आना। मतलब अगर आपके बेटे जंगल से बाहर आना चाहते हैं, डॉक्टर बनना चाहते हैं, वकील बनना चाहते हैं, इंजीनियर बनना चाहते हैं, उद्योग खोलना चाहते हैं तो वो नहीं कर सकते। यही फर्क है। इसके पीछे सोच है कि आदिवासी जंगल में रहें, उनका हम जंगल ले जाएं, उनका जल ले जाएं, उनकी जमीन ले जाएं और आप भीख मांगे। ये है आदिवासियों के खिलाफ अन्याय।’

इस संबोधन के बाद यात्रा आगे के लिए निकल पड़ी। रास्ते में श्री गांधी हसदेव अरण्य के प्रदर्षणकारियों से मिले। उनसे बात की। उनकी समस्या के बारे में जाना और उसके समाधान का भरोसा दिलाया। हजारों लोगों की इसी भीड़ के साथ चलते हुए यात्रा अंबिकापुर के किसान मंडी स्थित जन सुनवाई में पहुंची। इस जन सुनवाई का एक ही लक्ष्य था कि किसानों की बात ज्यादा से ज्यादा सुनी जाए। कांग्रेस नेता राहुल गांधी और कांग्रेस महासचिव श्री जयराम रमेश किसानों से सिर्फ तथ्यों की जांच के लिए सवाल पूछते। दो दिग्गज कांग्रेस नेताओं की इस व्यवस्था ने साबित कर दिया कि भारत जोड़ो न्याय यात्रा सिर्फ लोगों तक देश की हालत बयान करने के लिए नहीं है बल्कि लोगों के दिल की बात जानने और देश के मिजाज को समझने के लिए एक खुला माध्यम है।

आज के इस जन सुनवाई में श्री गांधी ने किसानों से सीधा सवाल कर लिया कि आने वाले लोकसभा चुनाव में कांग्रेस पार्टी अपने मेनीफेस्टो में क्या डाले! श्री गांधी का ये सवाल ऐसे समय में आया जब पार्टी के मैनिफेस्टो कमेटी के संयोजक टीएस सिंहदेव जी भी उस सुनवाई में उपस्थित थे। किसानों ने एकमत से जवाब दिया कि स्वामिनाथन कमीशन द्वारा MSP पर दिए गए फॉर्मूला को तुरंत लागू किया जाए। श्री गांधी ने किसानों की इस मांग को तुरंत मान भी लिया। इसके अलावा भी कई मुद्दों को किसानों ने कांग्रेस नेताओं के सामने उठाया। उनकी कुछ और मांगे थी जिनमें किसानों के लिए ऋण का समय से उपलब्ध न होना, उपज के लिए भंडारण की सुविधा की कमी मुख्य मांगे थी। किसानों से विस्तार से बात करके श्री गांधी ने उन्हें भरोसा दिलाया कि कांग्रेस पार्टी के विजन में उनकी बातों को रखा जाएगा और खुद श्री गांधी कई और किसानों से बात करेंगे और उनकी मुश्किलों को समझने और उसका निदान निकालने की कोशिश करेंगे।

आज की यात्रा की एक और खासियत रही। न्याय विरांगना यात्रा की शुरूआत। राहुल गांधी ने इस यात्रा को हरी झंडी दिखाकर शुरूआत की घोषणा की। इसके बाद उन्होंने इस यात्रा का नेतृत्व करने वाली महिलाओं से थोड़ी देर बात भी की। ये ग्रुप उत्तरप्रदेश में भारत जोड़ो न्याय यात्रा के साथ रहेगा।

दोपहर के ब्रेक के लिए न्याय यात्रा अंबिकापुर के नारायणी परिसर में रूकी। लंच ब्रेक के बाद कांग्रेस अध्यक्ष श्री मल्लिकार्जुन खरगे और कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने विशाल जनसभा को संबोधित किया। राज्य कांग्रेस के सभी बड़े कांग्रेसी नेता इस अवसर पर तो मौजूद थे ही साथ ही सैंकडों कार्यकर्ताओं की अगुवाई में हजारों समर्थक बेसब्री से श्री खरगे और राहुल गांधी को सुनने के लिए व्याकुल थे। इस जनसभा में आज दिल्ली से सटे हरियाणा बॉर्डर पर किसानों पर हो रहे अत्याचार की गूंज साफ सुनाई दी। केंद्र सरकार ने जिस तरीके से MSP और अपने लिए बुनियादी मांगों को मनवाने के मकसद से सड़क पर उतरे किसानों का दमन किया है वो हैरान करने वाली है। सरकार की इस दमनकारी रवैये की जितनी निंदा की जाए वो कम है।

जनता को संबोधित करते हुए श्री खरगे ने केंद्र सरकार पर जमकर हमला बोला। उन्होंने कहा- ‘आज मोदी हर जगह तोड़फोड़ की राजनीति कर रहे हैं। कर्नाटक पर जब हमने कुछ गारंटी अनाउंस किया तो पांच गारंटी के साथ हमारी सरकार आई। उसके बाद तेलंगाना मे छह गारंटी देकर हमने अपनी सरकार बनाई। हमारा देखकर मोदी जी अब हर जगह गारंटी, गारंटी बोलते हैं। अखबारों के पहले पन्ने पर मोदी की गारंटी लिखते हैं, हम तो कांग्रेस की गारंटी बोलते हैं। हम देश के लोगों के लिए बोलते हैं, वो खुद के लिए बोलते हैं। जिस व्यक्ति को इतना अहंकार है, सोचिए वो लोकतंत्र में विश्वास करता है? नहीं। वो सिर्फ अपने लिए काम करता है। जो सिर्फ अपने लिए काम करता है वो तानाशाह होता है, हिटलर जैसा काम करता है। ये लोकतंत्र में विश्वास रखने वाला व्यक्ति नहीं होता। मोदी झूठों के सरदार हैं।’

श्री खरगे इतने पर ही नहीं रूके। उन्होंने MSP को लेकर किसानों के प्रदर्शन के बारे में बोलते हुए एक गारंटी कांग्रेस पार्टी की तरफ से लोगों को दे डाली। श्री खरगे ने घोषणा की- ‘मैं अपनी पार्टी की तरफ से एक गारंटी देना चाहता हूं। ये गारंटी छत्तीसगढ़ से शुरू होगी। कांग्रेस पार्टी ये घोषणा करती है कि हम देश के किसानों को MSP की लीगल गारंटी, फसलों के व्यापक खरीद के साथ दिलाएंगे। हम किसानों के फसल MSP पर खरीदने की गारंटी देते हैं। ये हमारी पहली गारंटी है। इसके अलावा किसानों को और भी कोई तकलीफ है तो हम बैठकर बात करेंगे और उसको सुलाझाने का प्रयत्न करेंगे।’

श्री खरगे के बाद कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने जनता को संबोधित किया। उन्होंने लोगों को कहा- ‘स्वामीनाथन जी को बीजेपी की सरकार ने भारत रत्न दिया। मगर जिस चीज के लिए स्वामीनाथन जी ने अपनी जिंदगी दी, हिंदुस्तान के किसानों के लिए जो उन्होंने मेहनत की, जो स्वामीनाथन जी ने कहा, उसको करने के लिए सरकार तैयार नहीं हैं। इसका क्या मतलब है। स्वामीनाथन जी ने अपनी रिपोर्ट में साफ कहा है कि किसानों को एमएसपी का राइट मिलना चाहिए। वो बीजेपी की सरकार नहीं कर रही है। तो मैं जो यहाँ पर खरगे जी ने कहा उसको दोहराना चाहता हूं कि इंडिया की सरकार आएगी, तो हम एमएसपी की गारंटी हिंदुस्तान के किसानों को देंगे, जो स्वामीनाथन रिपोर्ट में लिखा है, वो हम पूरा करके आपको दे देंगे और ये हमारी शुरुआत है।’

जनसभा के संबोधन के बाद न्याय यात्रा का काफिला राजपुर की तरफ चल पड़ा। रात्रि विश्राम का इंतजाम यहीं पर किया गया था।

“देश का कोई भी व्यक्ति, जो अपने ऊपर अन्याय महसूस कर रहा है, जिसके ऊपर किसी भी तरह का अन्याय हो रहा है, वो न्याय योद्धा बन सकता है। अगर आप भी न्याय योद्धा बनना चाहते हैं तो 9891802024 पर मिस्ड कॉल करें।”

शेयर करें

एक टिप्पणी छोड़ें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *