राहुल गांधी: पेपर लीक, युवाओं को बेरोजगार रखने की साजिश

भारत जोड़ो न्याय यात्रा का आज 42वां दिन था। दो दिन के ब्रेक के बाद यात्रा उत्तर प्रदेश के मुरादाबाद से एक बार फ़िर शुरू हुई। सुबह जामा मस्जिद चौराहा से यात्रा संबल की तरफ निकल पड़ी। हजारों की भीड़, उनका उत्साह और उनके साथ ने यात्रा में नया जोश भर दिया है। आज की यात्रा में लोगों का उत्साह इसलिए भी ज्यादा था क्योंकि प्रियंका गांधी भी आज यात्रा से जुड़ी थी। उनके यात्रा में जुड़ने की खबर ने जनता में अलग ही ऊर्जा का संचार कर दिया था।

मुरादाबाद को देश की पीतल नगरी के नाम से भी जाना जाता है। यहां की पीतल इंडस्ट्री का देश विदेश में कारोबार का आंकड़ा सालाना 4 हजार करोड़ रूपए का है। भारत जोड़ो न्याय यात्रा के पांच स्तम्भ में से एक श्रमिक न्याय, इस पारंपरिक इंडस्ट्री में काम करने वाले लोगों को न्याय दिलाने के लिए प्रतिबद्ध है। राहुल गांधी और प्रियंका गांधी ने रोड शो किया। रोड शो के साथ साथ भी हर तरफ भीड़ ही भीड़ दिख रही थी। इस जनसमूह को प्रियंका गांधी ने संबोधित किया।

मुरादाबाद के लोगों के साथ प्रियंका गांधी ने अपने निजी रिश्ते को भी संबोधित किया। संबोधन की शुरूआत में ही उन्होंने उपस्थित जनता से अपना रिश्ता कायम करते हुए कहा- ‘ससुराल वालों! मैं आई थी यहां दो साल पहले, बड़ी मीटिंग हुई थी और रोड शो भी हुआ था। उस समय चुनाव हुआ था, आपने भाजपा को जिताया, योगी जी को जिताया, मैं पूछना चाहती हूं कि तब से अब तक कुछ बदला है? जो आपकी असली समस्याएं हैं, महंगाई है, बेरोजगारी है, रोजाना जो ये पेपर लीक हो रहा है, जिनके लिए आपके बच्चे मेहनत करते हैं, पढ़ते हैं वो सिलसिला अभी तक जारी है या नहीं? यहां पर पीतल के बडे़ बड़े कारखाने हैं लेकिन क्या आपकी तरक्की हुई है? सरकार से मिलने वाली सारी मदद आपको बंद हो गई। ऊपर से जीएसटी। मुश्किलें कम हुई हैं या फिर बढ़ी है?’

पेपर लीक पर भी प्रियंका ने राज्य सरकार पर कड़ा हमला किया। उन्होंने कहा- ‘पुलिस भर्ती के इम्तिहान में 28 लाख बच्चों ने परीक्षा दिया है। मतलब यूपी के लगभग हर गांव से चार या पांच नौजवानों ने ये परीक्षा दी। ऐसा नहीं है कि उन्हें कुछ मुफ्त दिया जा रहा है, पढ़कर, अपनी मेहनत से वो परीक्षा में पास होना चाहते थे। लेकिन हुआ क्या? पेपर लीक हो गया। 2022 में जब मैं यहां आई थी तो मैंने बताया था कि हमने एक घोषणापत्र बनाया था जिसमें पूरी योजना बनाई थी। उसमें जॉब कैलेंडर था, उसमें ये था कि एक कमीशन बनेगा और ये जो भी अन्याय हुआ है उसको ठीक किया जाएगा। जॉब कैलेंडर में परीक्षा और नियुक्ति सभी की डेट पहले से तय होगी। जो भी उस पर काम नहीं करेगा उसे सजा मिलेगी।’

प्रियंका गांधी के बाद कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने लोगों को संबोधित किया। राहुल गांधी के न्याय यात्रा की अब एक छवि बन गई है। माइक पकड़ते ही राहुल गांधी ने सबसे पहले भीड़ से एक इंसान को बुलाया। उत्तरप्रदेश की पूरी यात्रा में राहुल गांधी का लोगों से जुड़ने का ये तरीका खासा प्रचलित हो रहा है। साथ ही उनेक साथ लोगों को जुड़ने का भी अवसर मिल रहा है। यहां पर जनता को संबोधित करते हुए राहुल गांधी ने कहा- ‘मोदी जी पहले लोगों का ध्यान भटकाते हैं, अदानी जनता की जेब काट लेता है फिर अमित शाह डंडा लिए घूमता है। अगर किसी ने कुछ किया तो अमित शाह डंडा चला देंगे। बीजेपी का पूरा सिस्टम यही है। एक व्यक्ति ध्यान भटकाता है, दूसरा व्यक्ति पीछे से जेब काट जाएगा, तीसरी तरफ अमित शाह डंडा लेकर बैठे रहेंगे। इस देश में 15 प्रतिशत दलित, 50 प्रतिशत ओबीसी, 8 प्रतिशत आदिवासी, 15 प्रतिशत अल्पसंख्यक हैं, मतलब इस 90 प्रतिशत जनता को इस देश में कितनी भागीदारी मिल रही है? मेरा यही एक सवाल है।’

राज्य और केंद्र सरकार पर करारा हमला करते हुए राहुल गांधी ने कहा- ‘नरेंद्र मोदी जी कहते हैं कि ये सभी का हिंदुस्तान है। लेकिन अगर ये 90 प्रतिशत लोगों को कहीं कोई भागीदारी नहीं मिल रही तो फिर सभी का हिंदुस्तान कैसे हुआ? इसके लिए सबसे जरूरी है जातिगत जनगणना। आप कितनी संख्या में हो, कितना धन किसके पास है ये सब तभी पता चल जाएगा।’

राहुल गांधी और भारत जोड़ो न्याय यात्रा में युवाओं की इस भागीदारी ने केंद्र की सरकार को बेचैन कर दिया है। संबोधन के बाद यात्रा अमरोहा की ओर निकल पड़ी। अमरोहा में राहुल गांधी ने संत रविदास जयंती के मौके पर संत श्री रविदास को पुष्पांजलि अर्पित की। संत रविदास का विजन था बेग़मपुरा- यानी ऐसी जगह जहां किसी तरह का दुख या फिर चिंता न हो। कांग्रेस पार्टी भी इसी सिद्धांत पर चलती है और उसकी कोशिश एक न्यायपूर्ण, सौहार्दपूर्ण और समृद्ध भारत के निर्माण की है। एक तरीके से देखें तो आज की यात्रा की शुरूआत संत रविदास जी को श्रद्धांजलि अर्पित करके ही हुए थी। प्रतीकात्मक रूप से, रविदास जी की प्रतिमा से शुरू हुई और महात्मा गांधी की प्रतिमा पर समाप्त हुई। यह उस समृद्ध ऐतिहासिक विरासत का प्रमाण है जो भारत जोड़ो न्याय यात्रा को प्रेरणा देती है।

दोपहर के ब्रेक के लिए पॉलिटेक्निक कॉलेज में रूकी। आज का दिन कांग्रेस पार्टी के समर्थकों के लिए खुशखबरियों से भरा दिन था। लंच स्पॉट तक पहुंचते पहुंचते ही मीडिया के जरिए खबर मिली कि यूपी सरकार ने उत्तर प्रदेश पुलिस भर्ती की परीक्षा को कैंसिल करने की घोषणा कर दी। ये राहुल गांधी, कांग्रेस, उनके समर्थक और युवाओं के संघर्ष की जीत थी। पेपर लीक की समस्या से पूरे उत्तर प्रदेश के लाखों छात्र प्रभावित हैं। इसके बारे में यूपी में अपनी यात्रा के प्रवेश करने के साथ ही राहुल गांधी लगातार सवाल खड़े कर रहे थे।

17-18 फरवरी को 60 हजार सीटों के लिए यूपी पुलिस की परीक्षा आयोजित की गई थी। इस परीक्षा के लिए 50 लाख छात्रों ने अप्लाई किया था। राज्य में बेरोजगारी का आलम ये है। और इस युवा शक्ति को राज्य सरकार की नाकामी और अन्याय का सामना पेपर लीक के तौर पर करना पड़ा। मोदी सरकार की नीतियों ने पूरे देश में बेरोजगारों की फौज खड़ी कर दी है। इतना ही नहीं सरकारी नौकरियों में भर्तियां नहीं करने की वजह से भी लाखों युवकों के भविष्य अधर में लटक गए हैं। यही कारण है कि सरकारी नौकरियों की भर्तियों के निकलते ही प्रश्न पत्र बिकने और पैसे लेकर नौकरी दिलाने वाले ठगों की बहार आ जाती है। सरकार की उदासीनता ऐसे ठगों को फलने फूलने का मौका देती है।

लंच ब्रेक के बाद यात्रा चंदौसी चौराहा की तरफ निकली जहां पर एक स्वागत समारोह का आयोजन किया गया था। यहां कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने उपस्थित जनसमूह को संबोधित किया। जनसमूह को संबोधित करते हुए श्री गांधी ने एक बार फिर से सरकार और मीडिया की गठजोड़ पर करारा हमला किया। साथ ही यूपी में पेपर लीक के मामले को भी उठाया। उन्होंने कहा- ‘पेपर लीक इसलिए होता है क्योंकि ये लोग युवाओं को रोजगार नहीं देना चाहते। ये पूरे पब्लिक सेक्टर को अदानी, अंबानी के हाथों में देना चाहते हैं। ये चाहते हैं कि आप दस साल पढ़ाई करो और फिर जब परीक्षा का समय आए तो पेपर लीक करा देते हैं। मुरादाबाद में पीतल का बिजनेस हुआ करता था, यहां पर कालीन का बिजनेस हुआ करता था, लेकिन उन सभी कारोबारों को ये बंद कराना चाहते हैं। हमारे आपके पॉकेट में जो फोन हैं उससे चीन को फायदा होता है, आपको नहीं होता। मैं चाहता हूं कि भारत में बिकने वाले फोन पर मेड इन मुरादाबाद, मेड इन संबल, मेड इन यूपी’ लिखा हो। युवाओं आप एक बात समझ जाओ, आपको भूखा मारा जा रहा है, आपको बेरोजगार किया जा रहा है।’

इस संबोधन के बाद यात्रा बुलंदशहर की ओर चली गई जहां के पंडरावाल दोराहा में इनके रात्रि विश्राम की व्यवस्था की गई थी।

“देश का कोई भी व्यक्ति, जो अपने ऊपर अन्याय महसूस कर रहा है, जिसके ऊपर किसी भी तरह का अन्याय हो रहा है, वो न्याय योद्धा बन सकता है। अगर आप भी न्याय योद्धा बनना चाहते हैं तो 9891802024 पर मिस्ड कॉल करें।”

शेयर करें

Comments (1)

एक टिप्पणी छोड़ें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *