राहुल गांधी: 73% आबादी वालों को डांटकर कोने में बिठा दिया जाता है

भारत जोड़ो न्याय यात्रा का आज 49वां दिन था। पांच दिन के विश्राम के बाद यात्रा राजस्थान के धौलपुर से मुरैना, मध्यप्रदेश के लिए निकली। दोपहर के समय शुरू हुई इस यात्रा के साथ हजारों लोग जुड़े। सभी में देश में हो रहे अन्याय के प्रति रोष और मौजूदा हालात को बदलने का संकल्प था।

मुरैना के भीमराव अंबेडकर स्टेडियम में आयोजित समारोह में राजस्थान प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष द्वारा मध्यप्रदेश के प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष को राष्ट्रीय ध्वज सौंपा गया। मध्यप्रदेश में यात्रा पांच दिनों के लिए रहेगी। ध्वज हस्तांतरण समारोह में कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने जनसभा को संबोधित किया।

जनसभा को संबोधित करते हुए राहुल गांधी ने पहले तो बारिश के बावजूद लोगों को वहां उनके इंतजार में खड़े रहने के लिए धन्यवाद किया, और देरी के लिए क्षमा मांगी। उसके बाद फिर से राहुल गांधी ने केंद्र सरकार पर निशाना साधा और कहा- ‘बीजेपी और आरएसएस, नफरत, हिंसा और डर फैला रहे हैं। ये बातें मीडिया में तो आती नहीं है, इसलिए हमने सोचा कि सीधा जनता के बीच में जाकर अपनी बात रखें। इसलिए आजादी के बाद शायद ही किसी राजनीतिक पार्टी ने चार हजार किलोमीटर की पदयात्रा की है। बीजेपी नफरत बांट रही है और कांग्रेस प्यार बढ़ाने में लगी है। मध्यप्रदेश देश का दिल है और इसमें से मेरी दोनों ही यात्रा निकली।’

न्याय यात्रा के पांच सिद्धांत के बारे में राहुल गांधी ने बात की और कहा- ‘देश में कई तरह के अन्याय हो रहे हैं। सबसे बड़ा है आर्थिक अन्याय। इस देश में 22 ऐसे लोग हैं जिनके हाथ में उतना धन है जितना इस देश के 50 प्रतिशत आबादी के हाथ में है। जो 50 प्रतिशत इस देश के सबसे गरीब लोग हैं, उनके हाथों में इस देश का 3 प्रतिशत धन है। और इस देश के जो 5 प्रतिशत सबसे अमीर लोग हैं उनके हाथ में देश का 60 प्रतिशत धन है। चालीस साल में सबसे ज्यादा बेरोजगारी है। अगर युवाओं की बेरोजगारी को देखें तो पाकिस्तान और बांग्लादेश से दोगुनी बेरोजगारी हिंदुस्तान में है। इसके पीछे मोदी जी की जीएसटी और नोटबंदी जिम्मेदार है। ये आर्थिक अन्याय है। किसी भी राज्य में चले जाइए, देश के युवा सड़क पर भटकते हुए दिखेंगे। बेरोजगार युवा दिखेगा। ये है आर्थिक अन्याय। इसमें किसानों को भी शामिल कर लीजिए।’

किसानों के प्रति केंद्र सरकार के अन्याय के बारे में राहुल गांधी ने कहा- ‘पिछले दस साल में मोदी जी ने बड़े उद्योगपतियों का 16 लाख करोड़ रूपया माफ किया है। और किसानों का एक भी रूपया माफ नहीं किया है। किसान सिर्फ एमएसपी ही तो मांग रहा है। वो अपने फसल की सही कीमत मांग रहा है। जैसे ही फसल तैयार होती है, वो एक्सपोर्ट-इम्पोर्ट पॉलिसी को बदल कर दाम गिरा देते हैं। फिर किसानों को अपना माल कम दाम पर बेचना पड़ता है। वो यही गारंटी चाहते हैं कि कम से कम हमें एमएसपी दे दीजिए। मैं आपको यहां कह रहा हूं कि जैसे ही कांग्रेस पार्टी की सरकार आएगी हम लीगल एमएसपी की गारंटी देते हैं। ये हमने मैनिफेस्टो में लिख दिया है।’

जातिगत जनगणना के बारे में भी लोगों को जागरूक किया और कहा- ‘सामाजिक अन्याय में 73 प्रतिशत आबादी में दलित, आदिवासी और पिछड़े हैं। लेकिन समाज के उच्च स्थानों में उनकी भागीदारी नगण्य है। बड़ी कंपनियों, प्राइवेट कॉलेज, प्राइवेट यूनीवर्सिटी, सेंट्रल यूनीवर्सिटी के प्रोफेसर, रिपोर्टर, इंफ्लूएंसर के नाम में कहीं भी इन 73 प्रतिशत लोगों की उपस्थिति नहीं दिखती। 90 आईएएस ऑफिसर हैं जो पूरे देश का बजट को बांटते हैं। इस 90 में से तीन पिछड़े, एक आदिवासी और तीन दलित हैं। जब बजट बांटने का समय आता है तो उन्हें कोने में बिठा दिया जाता है और कहा जाता है कि चुपचाप कोने में बैठ जाओ। देश के 6 प्रतिशत बजट का निर्णय आप लेते हो। मजदूरों, मनरेगा मजदूर, दिहाड़ी मजदूर, सफाई कर्मचारी में सिर्फ पिछड़े, आदिवासी और दलित ही दिखते हैं। ये नरेंद्र मोदी जी करते हैं। एक तरफ आर्थिक अन्याय और दूसरी तरफ सामाजिक अन्याय। किसानों को कुछ नहीं देते, मजदूरों को कुछ नहीं देते। और पूरा का पूरा फायदा दस-पंद्रह बड़े बड़े उद्योगपतियों को मिलता है।’

गरीबों के फायदे के लिए कांग्रेस पार्टी के निश्चय को फिर से दोहराया- ‘हमारी इस न्याय यात्रा का उद्देश्य ही यही है कि हम चाहते हैं कि ये अन्याय खत्म हो और गरीब लोगों को उनका हक मिले। सामाजिक न्याय का पहला क्रांतिकारी कदम है जातिगत जनगणना। इसके होते ही 73 प्रतिशत को उनका हक़ मिल जाएगा। इससे आपको पता चल जाएगा कि आपके साथ कितनी बेईमानी की जा रही है और आपको कितना गुमराह किया जा रहा है।’

इसके बाद यात्रा मुरैना से ग्वालियर की तरफ चल पड़ी। ग्वालियर पहुंचकर राहुल गांधी ने रोड शो किया। रोड शो के बाद राहुल गांधी ने उपस्थित हजारों की भीड़ को संबोधित किया। उन्होंने एक बार फिर से न्याय यात्रा के पांच सिद्धांत के बारे में बात की। खासकर आर्थिक और सामाजिक न्याय के बारे में लोगों को बताया। कांग्रेस पार्टी द्वारा मैनिफेस्टो में जाति जनगणना और किसानों को एमएसपी देने के वायदे को दोहराया। कांग्रेस की सरकार बनती है तो राहुल गांधी अपने इन वादों को पूरा करेंगे इसकी गारंटी दी।

संबोधन के बाद यात्रा कैंप की तरफ चल पड़ी जहां उनके रात्रि विश्राम की व्यवस्था की गई थी।

“देश का कोई भी व्यक्ति, जो अपने ऊपर अन्याय महसूस कर रहा है, जिसके ऊपर किसी भी तरह का अन्याय हो रहा है, वो न्याय योद्धा बन सकता है। अगर आप भी न्याय योद्धा बनना चाहते हैं तो 9891802024 पर मिस्ड कॉल करें।”

शेयर करें

एक टिप्पणी छोड़ें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *