Day 8: न्याय यात्रा के काफिले पर BJP के गुंडों का हमला

भारत जोड़ो न्याय यात्रा का आठवां दिन। अपने तय समय से यात्रा राजगढ़-होलोंगी बॉर्डर विश्वनाथ अरूणाचल की ओर कूच कर गई। न्याय यात्रा के साथ हजारों लोगों का हुजूम दौड़ रहा था। सभी इस न्याय यात्रा में अपने अपने हिस्से का सहयोग देने को बेताब थे। आज की यात्रा में श्री गांधी ने अमौनी दिरू पुलोम जी से मुलाकात की। इनके ससुर जी को 2015 में पीपुल्स लिबेरेशन आर्मी (पीएलए) ने अगवा कर लिया था।

इसके बाद श्री गांधी का काफिला जब मॉर्निंग स्टार स्कूल, रायगढ़, असम, पहुंचा तो वहां हजारों लोगों की भीड़ स्वागत के लिए खड़ी थी। श्री गांधी और कांग्रेस के न्याय यात्रा के काफिले के स्वागत में स्थानीय लोगों ने जगह जगह रंगारंग कार्यक्रम की प्रस्तुति दी। यहां श्री गांधी की मुलाकात सभी पार्टियों के प्रतिनिधिमंडल से हुई। सभी पार्टियों के प्रतिनिधिमंडल के सदस्यों की ये मुलाकात सौहार्दयपूर्ण रही। राजनीतिक बातों से इतर सभी नेताओं ने कुछ हल्के फुल्के पल भी बिताए। इस मुलाकात ने न्याय यात्रा में नया रंग भर दिया है। राजनीतिक विरोध को भूलकर सभी पार्टी के नेताओं ने कांग्रेस के इस न्याय के संघर्ष को स्वीकार किया।

श्री गांधी का काफिला स्वतंत्रता सेनानी स्वाहित कनकलता और मुकुंद ककाती के स्मारक पहुंचा, जहां श्री गांधी ने इनको पुष्पांजलि अर्पित की। हजारों लोगों की भीड़ के साथ श्री गांधी का ये काफिला बढ़ता ही चला जा रहा था। असम के विश्वनाथ चरली गांव पहुंचने पर श्री गांधी ने बस से ही जनसभा को संबोधित किया।

जनसभा को संबोधित करते हुए श्री गांधी ने एक बार फिर केंद्र सरकार के साथ साथ असम की राज्य सरकार को भी घेरते हुए कहा- ‘युवाओं ने हमें कहा कि राहुल जी देश का सबसे बड़ा मुद्दा बेरोजगारी है। हम डिग्री ले लेते हैं, कॉलेज में पढ़ लेते हैं, यूनीवर्सिटी में पढ़ लेते हैं, स्कूल में पढ़ लेते हैं, मगर आज के हिंदुस्तान में हमें रोजगार नही मिल सकता है। किसानों ने कहा हमें अपनी मेहनत का फल नहीं मिलता, सही पैसा नहीं मिलता, सही दाम नहीं मिलता। हम अपना पूरा खून पसीना लगा देते हैं लेकिन उसका हमें सही दाम नहीं मिलता। ये मुद्दे हमने कश्मीर से कन्याकुमारी तक उठाए।’

राज्य की बीजेपी सरकार द्वारा भारत जोड़ो न्याय यात्रा पर किए जा रहे हमले पर भी श्री गांधी ने कहा- ‘पूरा देश जानता है, पूरा असम जानता है कि आपके सीएम और उनका पूरा परिवार सबसे भ्रष्ट लोग हैं। अब ये सोचते हैं कि लोगों को डराकर, धमकाकर, उनको दबा देंगे। जैसे यात्रा में कभी हमारा परमिशन काट देते हैं, कभी लोगों को आने नहीं देते हैं, कभी हमारे झंडे जला देते हैं, हमारी होर्डिंग्स गिरा देते हैं। मगर इनको बात समझ नहीं आ रही है। ये यात्रा राहुल गांधी की यात्रा नहीं है। ये यात्रा असम के जनता की आवाज की यात्रा है। और वो जो भी करना चाहें कर सकते हैं, न राहुल गांधी, न असम की जनता, आपके सीएम से डरते हैं।’

श्री गांधी ने लोगों को चाय बगान में काम करने वाले कुछ लोगों से हुई अपनी मुलाकात का भी जिक्र किया। उन्होंने जनसभा को बताया कि- ‘हम यहां यात्रा में 7-8 घंटा आपसे मिलते हैं। प्रतिनिधिमंडल के लोग आते हैं, किसानों से मिलते हैं, छोटे दुकानदारों से मिलते हैं, युवाओं से मिलते हैं और जानते हैं कि कहां क्या हो रहा है।

जैसे अभी चाय बगान के मजदूर आए थे उन्होंने मुझे कहा कि देखिए हमें कम पैसा मिलता है, 250 रूपए तक मिलते हैं, एम्बुलेंस तक नहीं है, एम्बुलेंस में हम बैठते हैं, कंपनी वाले पैसे ले लेते हैं। ये मुद्दे यात्रा में हम पता चलते हैं और फिर आपके मुद्दों के लिए हम लड़ाई लड़ते हैं। ये है इस यात्रा का लक्ष्य।’

इसके बाद श्री गांधी का काफिला लंच ब्रेक के लिए रूका जहां कांग्रेस के वरिष्ठ नेता श्री जयराम नरेश ने मीडिया को संबोधित किया। श्री रमेश ने मीडिया को बताया कि कैसे राज्य की असम सरकार भारत जोड़ो न्याय यात्रा को रोकने और लोगों को डराने में लगी है। कांग्रेस नेता ने राज्य सरकार पर तीखा हमला करते हुए फिर से कहा- ‘मुख्यमंत्री बीमार हैं। वो जब राहुल जी और कांग्रेस पार्टी का नाम सुनते हैं तो अपना मानसिक संतुलन खो देते हैं। पहले दिन ही उन्होंने देखा कि जो महिलाएँ राज्य सरकार के कार्यक्रम के लिए इकट्ठा की गई थी उन्होंने राहुल जी का स्वागत किया और उनसे मिलने के लिए राज्य सरकार का कार्यक्रम छोड़ दिया। तभी से वो बौखलाए हुए हैं।’

असम की राज्य सरकार के डर का आलम ये है कि आज बीजेपी के गुंडों ने कांग्रेस महासचिव श्री जयराम रमेश की गाड़ी को रोका, गाड़ी पर लगे यात्रा के स्टीकर को फाड़ दिया। इतना ही नहीं BJP के गुंडों ने कांग्रेस सोशल मीडिया टीम के कैमरामैन और अन्य सदस्यों पर भी हमला किया, जिसमें महिलाएं भी थीं। इन गुंडों के हाथ में BJP का झंडा था। साफ है कि यह घटना सीधे तौर पर असम के मुख्यमंत्री के इशारों पर की गई है। 'भारत जोड़ो न्याय यात्रा' को मिल रही सफलता ने BJP की नींद उड़ा दी है। कांग्रेस महासचिव ने इस हमले के बारे में अपने एक्स (ट्विटर) हैंडलपर पोस्ट करते हुए लिखा है कि जिस इलाके में उन पर हमला हुआ है वहां के पुलिस मुखिया असम सीएम का छोटा भाई है।

लंच ब्रेक के बाद श्री गांधी की यात्रा जामुगुरीहाट से शुरू होकर वापस अपने गंतव्य को चल पड़ी। सुलुंग हाई स्कूल मैदान, राजीव गांधी खेल मैदान, कलियाबोर, नागांव में न्याय यात्रा का काफिला पहुंचा। यहां पर कांग्रेस अध्यक्ष श्री मल्लिकार्जुन खरगे जी और श्री राहुल गांधी ने गुब्बारे हवा में उड़ाकर जनसभा की शुरूआत की और लोगों का अभिवादन किया।

जनसभा को कांग्रेस अध्यक्ष ने संबोधित किया। उन्होने केंद्र सरकार पर हमला करते हुए कहा- ‘असम में आजकल हमसे निकल के भाजपा में जो गए, ‘नए Converted CM’ हैं। वो हमे धमकियाँ दे रहे हैं। भाजपा के लोगों ने यात्रा के ऊपर हमला भी किया, गाड़ियों के शीशे तोड़े। Poster/Banner भी फाड़े। हम अंग्रेजों के सामने नहीं झुके, तो भाजपा के सामने क्या झुकेंगे?

यहाँ के CM भूल जाते है कि ख़ुद उनके ऊपर अनगिनत घोटालों के आरोप है, कई धाराओं में मामले दर्ज हैं। राहुल गांधी जी ने सही कहा कि असम के CM देश के सबसे भ्रष्ट मुख्यमंत्री हैं। वो अगर आज सच्चे और साफ़ बन रहे हैं, तो इसके पीछे सिर्फ़ मोदी जी व अमित शाह जी की Washing Machine का कमाल है।’

सबके लिए खुली है मोहब्बत की दुकान, जुड़ेगा भारत, जीतेगा हिंदुस्तान।🇮🇳

Posted by Rahul Gandhi on Sunday, January 21, 2024

कांग्रेस अध्यक्ष के बाद कांग्रेस नेता और भारत जोड़ो न्याय यात्रा के सारथी श्री राहुल गांधी ने जनसभा को संबोधित किया। न्याय यात्रा के काफिल पर हुए हमले के बारे में बोलते हुए श्री गांधी ने सीधा सीधा केंद्र सरकार और राज्य सरकार पर तीखा प्रहार किया।

उन्होंने कहा- दो तीन दिन से मैं भारत जोड़ो न्याय यात्रा में मैं असम की सड़कों पर चल रहा हूं। हिंदुस्तान के सबसे भ्रष्ट सीएम का नाम मैं जहां भी जाकर पूछ रहा हूं वो एक ही नाम ले रहे हैं- हेमंत विश्वसरमा। यहां से दो-तीन किलोमीटर पहले बीजेपी के 20-25 कार्यकर्ता नेता पार्टी का झंडा लिए हमारी बस के सामने आ गए। मैं बस से बाहर निकला तो वो भाग गए। उनको क्या लगता है कि कांग्रेस पार्टी उनसे डर जाएगी क्या? जितने हमारे पोस्टर फाड़ने हैं फाड़ लो, हम न तो नरेंद्र मोदी से डरते हैं, न ही हेमंत सरमा से डरते हैं।

असम की आम जनता ने, माताओं बहनों और युवाओं ने हमें बहुत प्यार दिया है। 10-15 बीजेपी के लोगों ने परेशान करने की कोशिश की लेकिन जनता ने हमें भरपूर प्यार दिया है। सरकार सोचती है कि डराकर, धमकाकर असम की जनता को शांत करा देंगे, लेकिन असम की जनता किसी से नहीं डरती।’

डरो मत, सहो मत के इसी उद्घोष के साथ ही आज की यात्रा अपने रात्रि विश्राम के लिए कैंप की तरफ चल पड़ी।

“देश का कोई भी व्यक्ति, जो अपने ऊपर अन्याय महसूस कर रहा है, जिसके ऊपर किसी भी तरह का अन्याय हो रहा है, वो न्याय योद्धा बन सकता है। अगर आप भी न्याय योद्धा बनना चाहते हैं तो 9891802024 पर मिस्ड कॉल करें।”

शेयर करें

एक टिप्पणी छोड़ें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *