Day 5: Assam CM Is The Most Corrupt CM Of India

आओहदांग ग्राउंड, टुली, नागालैंड में रात बिताने के बाद भारत जोड़ो न्याय यात्रा का पांचवा दिन शुरू हुआ। टुली से शुरू हुई यात्रा 17 किलोमीटर का सफर तय करके नागालैंड-असम बॉर्डर पर पहुंची। श्री गांधी के बस के टुली से निकलने के पहले स्थानीय कलाकारों ने पारंपरिक नृत्यकला का प्रदर्शन किया। रास्ते में लोगों का तांता श्री गांधी के लिए तरह तरह के उपहार, ढेर सारा प्यार और आशिर्वाद लिए खड़ा था। खास बात ये है कि नागालैंड से चली बस में आज श्री राहुल गांधी के साथ कुछ बच्चे सहयात्री थे। इन बच्चों ने यात्रा को नागालैंड की सीमा पर अलविदा किया।

असम-नागालैंड बॉर्डर पर असम की कांग्रेस पार्टी द्वारा कार्यक्रम का आयोजन किया गया था। इस कार्यक्रम में नागालैंड प्रदेश कांग्रेस कमेटी (PCC) के अध्यक्ष श्री एस. सुपोंगमेरेन जमीर ने असम PCC अध्यक्ष भूपेन कुमार बोरा को राष्ट्रीय ध्वज हस्तांतरित किया। इसके साथ ही यात्रा का असम की सीमा में शुभारंभ हो गया।

राष्ट्रीय ध्वज के हस्तांतरण के बाद कांग्रेस नेता श्री राहुल गांधी ने जनसभा को संबोधित किया। श्री गांधी ने केंद्र सरकार पर हमला करते हुए कहा कि- ‘बीजेपी आरएसएस देश में नफरत फैलाते हैं, एक धर्म को दूसरे धर्म से लड़ाते हैं। और इनका लक्ष्य जनता को लड़ाने का है और फिर जनता का जो धन है उसको लूटने का है। इस यात्रा का लक्ष्य हर धर्म को, हर जात को, हिंदुस्तान की जनता को एक करने का तो है, मगर इसमें हमने न्याय शब्द भी जोड़ रखा है। क्योंकि हम ये मानते हैं कि देश में, हर प्रदेश में बीजेपी और आरएसएस अन्याय कर रहे हैं। राजनीतिक अन्याय, आर्थिक अन्याय और सामाजिक अन्याय।’

श्री गांधी ने राज्य की बीजेपी सरकार पर भी तीखा हमला करते हुए कहा- ‘शायद हिंदुस्तान की सबसे भ्रष्ट सरकार आसाम में चलती है। आपलोग जानते हो क्या हो रहा है आसाम में। और आपलोग के जो मुद्दे हैं इनको हम भारत जोड़ो न्याय यात्रा के माध्यम से उठाएंगे।’

15वीं-16वीं शताब्दी में असमिया भाषा के अत्यन्त प्रसिद्ध कवि, नाटककार, गायक, नर्तक, समाज संगठक, तथा हिन्दू समाजसुधारक श्रीमंत शंकरदेव जी का असम में बहुत महत्व है। श्री गांधी ने असम के लोगों को भरोसा दिलाया कि कांग्रेस पार्टी श्री शंकरदेव जी ही तरह असम के मुद्दों के लिए लड़ेगी। सत्ता से सवाल करेगी। उन्होंने कहा- ‘आपने शंकर देव जी की बात की। ये यात्रा शंकर देव जी की विचारधारा की यात्रा है। जो उन्होंने कहा और जो असम का इतिहास है उसी को हम फिर से दोहरा रहे हैं। देव जी ने आपको रास्ता दिखाया था, सबको जोड़ने का काम किया था, अन्याय के खिलाफ लड़ाई लड़ी थी। उसी प्रकार से, उसी रास्ते पर भारत जोड़ो न्याय यात्रा चलने वाली है।’

स्वागत समारोह के बाद श्री राहुल गांधी का काफिला अपने अगले पड़ाव की ओर निकल पड़ा। रास्ते में रोजाना की तरह आज भी सैकड़ों की संख्या में लोगों का हुजूम श्री राहुल गांधी की एक झलक पाने के इंतजार में खड़ा था। कई जगह स्थानीय कलाकार श्री गांधी को अपने रंगारंग कार्यक्रम की झलक दिखाने को बेकरार थे। श्री गांधी लोगों के इस प्यार और सम्मान को तवज्जो देते हुए उनके कार्यक्रम में शरीक हुए।

जहां भी जाता हूं, भारत की महिलाओं से, माताओं और बहनों से मुझे हमेशा बहुत प्यार और आशीर्वाद मिला है। जो हमारे देश की शक्ति हैं, उनके साथ होते अन्याय को देख कर बहुत दुख होता है। उनके अधिकारों के लिए, सुरक्षा, सम्मान और समानता के लिए हर संघर्ष करने को तत्पर हूं।

Posted by Rahul Gandhi on Wednesday, January 17, 2024

असम में श्री राहुल गांधी और कांग्रेस पार्टी के भारत जोड़ो न्याय यात्रा की लोकप्रियता का एक बहुत ही प्यारा वाकया देखने को मिला। असम के मुख्यमंत्री हेमंत बिस्वसरमा के एक कार्यक्रम में भाग लेने के लिए महिलाओं का हुजूम आया हुआ था। जैसे ही उन महिलाओं की नजर न्याय यात्रा की बस और राहुल गांधी पर पड़ी सभी महिलाएं दौड़कर राहुल जी से मिलने आई, उनका स्वागत किया और उन्हें अपने बीच में आने के लिए आमंत्रित किया। उन महिलाओं ने श्री गांधी के साथ फोटो खिंचवाने की गुजारिश की जिसे कांग्रेस नेता ने बड़ी ही आत्मियता के साथ स्वीकार किया। श्री गांधी ने थोड़ी देर उन महिलाओं के साथ बातचीत की, उनका हाल चाल पूछा। असम की जनता को पहले दिन से ही न्याय का संदेशा मिल चुका है। और असम की भ्रष्ट सरकार को वहां की जनता न्याय संदेश दे भी रही है।

श्री राहुल गांधी से आज मिलने वालों में असम के परिसीमन प्रतिनिधिमंडल के लोग प्रमुख थे। इन्होंने श्री गांधी को असम के परिसीमन से संबंधित अपनी मुश्किलों के बारे में बताया। परिसीमन मामले में असम में क्या पेंच हैं उसपर बात की। परिसीमन प्रतिनिधिमंडल के अलावा असम की जनजाति प्रतिनिधिमंडल ने भी श्री गांधी से भेंट की। जोरहाट के पुथिनाडी में यात्रा का काफिला लंच के लिए रूका।

लंच ब्रेक के बाद यात्रा नकाचारी देबरापार, जोरहाट से निमती रोड जोरहाट की तरफ रवाना हुई। फिर से वही रास्ते में लोगों की कतारें। श्री गांधी के बस के आसपास लोगों की इतनी भीड़ थी कि उन्हें बस से उतर कर लोगों के साथ पैदल चलना पड़ा। हजारों की संख्या में लोग सड़क किनारे खड़े थे।

इसी क्रम में श्री राहुल गांधी से सामाजिक संगठन के लोग भी मिलने आए। इनमें चाय बगान में काम करने वाले मजदूरों के हितों की बात करने वाला प्रतिनिधिमंडल भी शामिल था। उन्होंने श्री राहुल गांधी को चाय बगान में काम करने वाले मजदूरों की दयनीय हालत और उनके कम वेतन की समस्या से भी अवगत कराया।

इसके बाद श्री गांधी ने थोड़ी दूर तक पदयात्रा भी की। लोगों के साथ चले और उनकी बातों को सुना। हर कोई उनके साथ सेल्फी लेने को बेताब है। कोई उन्हें फूल दे रहा है, कोई सेल्फी ले रहा है तो कोई गमोसा (असम का गमछा) गिफ्ट कर रहा है। लोगों कि इतनी भीड़ हो गई कि सुरक्षाकर्मियों के लिए उसे हैंडल करना मुश्किल हो गया। श्री गांधी की इस पदयात्रा में कांग्रेस पार्टी के वरिष्ठ नेता जयराम रमेश और केसी वेणुगोपाल भी कदम से कदम मिला रहे थे। शाम करीब 4.30 बजे श्री गांधी का काफिला जोरहाट शहर में पहुंचा जहां उन्होंने लोगों को संबोधित किया।

अपने संबोधन में श्री गांधी ने केंद्र सरकार के साथ साथ राज्य सरकार पर भी तीखा हमला बोला। असम सरकार पर हमला करते हुए श्री गांधी ने कहा- ‘हिंसा को असम से बेहतर कोई नहीं समझता है। एक समय हुआ करता था जब आपलोग घरों से बाहर नहीं निकल सकते थे। चारों तरफ हिंसा और नफरत की आग फैली हुई थी। तब कांग्रेस पार्टी ने हिंसा को खत्म किया और असम के लोगों को जोड़ा। और आज बीजेपी और आपके मुख्यमंत्री असम को बांटने का काम कर रहे हैं। देश की सबसे भ्रष्ट सरकार असम की सरकार है। सबसे भ्रष्ट मुख्यमंत्री असम का मुख्यमंत्री है। परिवार के सारे सदस्य, चाहे बच्चे हों, वो स्वयं हों, उनकी बीवी हों, कोई न कोई करप्शन में सब एक साथ लगे हैं। वो सोचते हैं कि पैसे से असम की जनता को खरीदा जा सकता है। क्योंकि उन्हें पैसे से खरीदा जा सकता है। असम की जनता पैसे से नहीं खरीदी जा सकती। असम की जनता शंकर देव की जनता है। उन्होंने आपको रास्ता दिखाया है और आपने बाकी देश को रास्ता दिखाया है।’

साथ ही श्री राहुल गांधी ने देश में बेरोजगारी के मुद्दे पर भी केंद्र और राज्य सरकार को आड़े हाथों लेते हुए कहा- ‘देश के युवाओं के सामने सबसे बड़ा मुद्दा बेरोजगारी है। हिंदुस्तान के किसी भी प्रदेश में पूछो आपको बेरोजगारी ही बेरोजगारी दिखेगी। दो तीन उद्योगपतियों के लिए सरकार चलाई जाती है। चाहे एयरपोर्ट हो, पोर्ट्स हों या कृषि हो, इंफ्रास्ट्रकचर हो नरेंद्र मोदी ने सारा का सारा अदानी जी के हाथ कर दिया और यहां आपके मुख्यमंत्री सारा का सारा अपने हाथ कर रहे हैं। लघु उद्योग जिससे रोजगार बनता है उसको जीएसटी और नोटबंदी से खत्म कर दिया। नतीजा है कि देश के सारे के सारे उद्योग एक के बाद एक बंद हो रहे हैं। पब्लिक सेक्टर खत्म हो रहा है। और युवाओं को रोजगार नहीं मिल रहा है। ये युवाओं के खिलाफ अन्याय है। बेरोजगारी युवाओं के खिलाफ सबसे बड़ा अन्याय है। ये हम देश के सामने रखना चाहते हैं। हिंदुस्तान बेरोजगारी के साथ कभी प्रगति नहीं कर सकता है। कांग्रेस पार्टी का वादा है कि सरकारी वैकेंसी को हम पूरा भरकर आपको देंगे। छोटे और लघु उद्योगों को हम वापस लाएँगे और आपको नौकरी देंगे।’

इसके बाद न्याय यात्रा की बस कुमार गांव, निमती रोड, जोरहाट की तरफ चली गई, जहां उनके रात्रि विश्राम की व्यवस्था की गई है।

“देश का कोई भी व्यक्ति, जो अपने ऊपर अन्याय महसूस कर रहा है, जिसके ऊपर किसी भी तरह का अन्याय हो रहा है, वो न्याय योद्धा बन सकता है। अगर आप भी न्याय योद्धा बनना चाहते हैं तो 9891802024 पर मिस्ड कॉल करें।”

शेयर करें

एक टिप्पणी छोड़ें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *