Day 3: मैं धर्म को फायदे के लिए इस्तेमाल नहीं करता

भारत जोड़ो न्याय यात्रा का तीसरा दिन भी ऊर्जा और उल्लास के साथ शुरू हुआ। दिन की शुरूआत कोहिमा के विस्वेमा नगर परिषद् द्वारा दिए गए भोज से हुई। इसके बाद श्री राहुल गांधी कोहिमा वॉर मेमोरियल जाकर द्वितीय विश्वयुद्ध के वीर शहीदों को श्रद्धांजलि अर्पित कर आगे की यात्रा शुरू की।

फुलबारी में श्री राहुल गांधी ने जनता को संबोधित किया। लोगों से मिले प्यार और ऊर्जा के लिए उन्हें धन्यवाद दिया। इसके बाद श्री राहुल गांधी ने लोगों के साथ पदयात्रा करते हुए बातें की। लोगों की परेशानियां सुनी। स्थानीय लोगों द्वारा प्रदर्शित लोकनृत्य में भाग लिया और प्यार और सम्मान में दिए गए वस्त्रों को सिर-आंखों पर लगाते हुए आगे बढ़ते गए।

रास्ते में स्थानीय लोगों की भीड़ उनके स्वागत में सड़कों पर खड़ी रहती। श्री राहुल गांधी भी जगह जगह रूक कर या तो बस से नीचे उतरकर या फिर लोगो को बस में बुलाकर फोटो खिंचवाने से गुरेज़ नहीं करते। इसी क्रम में एक प्यारे से मेहमान के साथ भी कांग्रेस नेता ने फोटो खिंचवाई। एक महिला समर्थक बड़ी ही बेचैनी से श्री राहुल गांधी से मिलने का इंतजार कर रही थी। श्री गांधी ने बस रूकवाई और महिला को बस के अंदर बुलाया। महिला के साथ उनका पालतू कुत्ता था जिसे उन्होंने बस के नीचे ही छोड़ दिया। ये बात राहुल गांधी ने नोटिस कर ली और महिला को कहा कि आपने अपने puppy को नीचे क्यों छोड़ दिया उसे भी साथ लेकर आइए। महिला खुशी खुशी अपने pet को साथ लेकर आई और कांग्रेस नेता के साथ फोटो खिंचवाई।

All paws on deck! 🐾

Posted by Rahul Gandhi on Monday, January 15, 2024

राहुल गांधी की यही शख्सियत उन्हें दूसरे राजनेताओं से अलग बनाती है। इसके बाद लोगों से मिलते- बात करते भारत जोड़ो न्याय यात्रा का काफिला आगे बढ़ता चला गया। तभी श्री राहुल गांधी ने अचानक से एक स्पोर्ट्स स्टेडियम के सामने बस को रूकवाया।

इस स्टेडियम की खासियत को बताते हुए कांग्रेस नेता और AICC के प्रधान सचिव (इनचार्ज कम्युनिकेशन) श्री जयराम रमेश ने एक्स (ट्विटर)– ‘.पर लिखा- “राहुल गांधी पर लिखा- “राहुल गांधी ने अचानक एक स्टेडियम को देखने का फैसला किया। इस स्टेडियम में कोहिमा खेल संघ ने एक सप्ताह के स्पोर्ट्स मीट का आयोजन किया था। इस संघ की स्थापना 1944 में की गई थी। स्टेडियम की पट्टिका बहुत कुछ बयान कर रही है। वो भी एक ज़माना था!”

दोपहर के खाने लिए भारत जोड़ो न्याय यात्रा का काफिला नागालैंड के चीफ़ोबोज़ौ स्थित SCERT कॉलेज ग्राउंड में रूका। लंच के बाद श्री राहुल गांधी ने पत्रकारों के साथ प्रेस कॉन्फ्रेंस की और उसमें उनके सवालों का जवाब दिया। 22 जनवरी को अयोध्या में राम मंदिर के प्राण प्रतिष्ठा में कांग्रेस पार्टी के नेताओं के शामिल होने के सवाल पर श्री राहुल गांधी ने जवाब दिया कि- ‘RSS-BJP ने 22 तारीख को एक चुनावी फ्लेवर दे दिया है। हिंदू धर्म के शंकराचार्य ने भी कह दिया है कि वो नहीं जा पाएंगे क्योंकि ये एक राजनैतिक समारोह बन गया है। इसलिए कांग्रेस अध्यक्ष ने वहां जाने से इंकार किया है। जहां तक धर्म की बात हम सब धर्मों के साथ है। जो भी जाना चाहते है जा सकता है, कांग्रेस पार्टी से जा सकता है। लेकिन हम किसी राजनीतिक फंक्शन का साथ नहीं दे सकते। मेरी सोच है जो सचमुच में धर्म को मानता है धर्म के साथ पर्सनल रिश्ता रखता है, वो अपनी लाइफ में धर्म का प्रयोग करता है। जो धर्म के साथ पब्लिक रिश्ता रखता है वो धर्म का फायदा उठाने की कोशिश करता है। मुझे उसमें इंटरेस्ट नहीं है। मगर मैं जो धर्म है उसके जो बेसिक प्रिंसिपल हैं उससे अपनी जिंदगी जीने की कोशिश करता हूं। लोगों के साथ ठीक से बर्ताव करता हूं। लोगों की इज्जत रखता हूं। अहंकार से नहीं बोलता हूं। नफरत नहीं फैलाता हूं। ये मेरे लिए हिंदू धर्म है।’

इसके बाद रेंग्मा खेल संघ के ग्राउंड से राहुल गांधी का काफिला आगे बढ़ चला। यहां पर उन्होंने बच्चों के साथ बैठकर फुटबॉल मैच भी देखा। शाम 4.30 के आस पास कांग्रेस नेता ने वोखा में जनता को संबोधित किया और नागालैंड की जनता को इतने प्यार और सम्मान के लिए धन्यवाद करते हुए कहा कि- “मुझे अफसोस है कि मैं आपके राज्य में ज्यादा समय तक नहीं रूक पाया। मुझे आपलोगों से मिलने और बातें करने के लिए फिर से नागालैंड आना पड़ेगा। और मैं आऊंगा।”

लोगों को संबोधित करने के बाद राहुल गांधी कार से चुकीटॉन्ग के लिए निकल गए जहां पर रात्रि विश्राम की व्यवस्था की गई है।

“देश का कोई भी व्यक्ति, जो अपने ऊपर अन्याय महसूस कर रहा है, जिसके ऊपर किसी भी तरह का अन्याय हो रहा है, वो न्याय योद्धा बन सकता है। अगर आप भी न्याय योद्धा बनना चाहते हैं तो 9891802024 पर मिस्ड कॉल करें।”

शेयर करें

एक टिप्पणी छोड़ें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *