Day 24: हम नया फाइनेंशियल प्लान लाएंगे और GST को बदल देंगे- राहुल गांधी

भारत जोड़ो न्याय यात्रा का 24वां दिन, कांग्रेस नेता राहुल गांधी द्वारा खूंटी में धरती आबा भगवान बिरसा मुंडा की प्रतिमा पर माल्यार्पण के साथ शुरू हुआ। इस दौरान राहुल गांधी, बिरसा मुंडा के परिवार की चौथी पीढ़ी के सदस्यों से भी मिले और उन्हें सम्मानित किया। झारखंड स्थित खूंटी, भगवान बिरसा मुंडा की जन्मस्थली है। भगवान बिरसा मुंडा भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन के क्रांतिकारी योद्धाओं में से एक थे। स्वराज, लोकतंत्र, और न्याय के सिद्धांतों के प्रबल समर्थक भगवान बिरसा मुंडा के आदर्श आज भी प्रासंगिक हैं।

इसके बाद फिर से हजारों की भीड़ को साथ लिए न्याय यात्रा अगले पड़ाव के लिए निकल पड़ी। थोड़ी दूरी पर राहुल गांधी को कुछ महिलाएं दिखीं। उन महिलाओं से बातचीत में पता चला कि पिछली सरकार ने उनकी जमीनें ले ली और उसका कोई मुआवज़ा भी नहीं दिया गया।

खूंटी के पत्थलगड़ी आंदोलन के सदस्यों ने भी आज राहुल गांधी से मुलाकात की। उन्होंने श्री गांधी को अपनी परेशानियों के बारे में बताया और मांगों से अवगत कराया। उन्होंने राहुल गांधी से मांग की कि उनके सदस्यों के खिलाफ हुए मुकदमे खत्म किए जाएं और उनकी जमीन उन्हें वापस दे दी जाए। कांग्रेस नेता ने उनको आश्वासन दिया कि वो प्रदेश के सीएम चंपई सोरेन को इस बाबत चिट्ठी लिखेंगे और इस मुद्दे का जल्दी निपटारा करवाएंगे।

राहुल गांधी एक छोटे से आदिवासी गांव में भी रूके और वहां के लोगों से मुलाकात की। वरिष्ठ पत्रकार और आदिवासी अधिकारों की कार्यकर्ता दयामणि बारला ने श्री गांधी को गांव वालों की मुश्किलों के बारे में बताया। साथ ही आदिवासियों की जमीन किस तरह से छिनी जा रही है इसके बारे में भी विस्तार से चर्चा की।

कामडारा बस स्टैंड, गुमला पहुंचकर राहुल गांधी ने यात्रा के इंतजार में खड़े लोगों को संबोधित किया। उन्होंने एक बार फिर से केंद्र सरकार पर आदिवासियों के प्रति अन्याय के लिए जमकर हमला बोला। श्री गांधी ने कहा- ‘झारखंड की जनता के अलग अलग वर्ग के लोगों ने मुझे बताया कि सिर्फ झारखंड ही नहीं बल्कि पूरे देश में आदिवासियों से उनकी जमीन छिनी जा रही है। और आदिवासियों को उनकी जमीन का मुआवजा भी नहीं दिया गया।’

केंद्र सरकार की इस वादाखिलाफी के खिलाफ श्री गांधी ने कहा- ‘हम PESA और जमीन अधिग्रहण कानून ये दो कानून लाए थे। जमीन अधिग्रहण कानून में ये साफ लिखा गया है कि बिना ग्राम सभा से पूछे किसी की भी जमीन नहीं ली जा सकती। और अगर जमीन ली जाएगी तो मार्केट रेट से चार गुणा ज्यादा पैसा दिया जाएगा। और अगर जमीन लेकर पांच साल में उस जमीन का प्रयोग नहीं किया गया तो वो जमीन वापस कर दी जाएगी। अब झारखंड में लाखों एकड़ जमीन ली गई है। पिछली सरकार ने ली थी। लैंड बैंक बनाया और उसका कोई प्रयोग नहीं किया गया। यहां के आदिवासियों ने मुझे कहा कि पांच साल हो गए अब ये जमीन हमें वापस मिलनी चाहिए। ये आदिवासियों के सामने एक बड़ा मुद्दा है।’

इसके बाद यात्रा दोपहर के विश्राम के लिए चली गई। लंच ब्रेक के बाद गुमला के बसिया में कांग्रेस महासचिव श्री जयराम रमेश और कांग्रेस नेता श्री राहुल गांधी ने प्रेस को संबोधित किया। श्री गांधी ने प्रेस के सवालों के जवाब दिए और यात्रा के बारे में बताया। संसद में ओबीसी के मामले में प्रधानमंत्री द्वारा सदन में दिए गए वक्‍तव्‍य को लेकर पूछे एक प्रश्‍न के उत्तर में श्री राहुल गांधी ने कहा कि, ‘ये सवाल एक व्‍यक्ति का नहीं है, ये सवाल हिन्‍दुस्‍तान के करोड़ों गरीब लोगों का है। तो भाषण में प्रधानमंत्री का ये कहना कि मैं ओबीसी हूं या मैं ओबीसी नहीं हूं, ये मायने नहीं रखता है। मायने ये रखता है कि इस देश के कितने लोग ओबीसी हैं।’

कल रात से यात्रा के दौरान एक कुत्ते को बिस्किट खिलाने का वीडियो वायरल हो रहा था। इस घटना को लेकर बीजेपी द्वारा की गई टिप्पणी को लेकर पूछे एक प्रश्न के उत्तर में श्री राहुल गांधी ने कहा कि, ‘क्‍योंकि वो (कुत्ता) बिल्‍कुल घबराया हुआ था, कांप रहा था और मैंने जब उसको बिस्‍किट दिया, वो डर गया, तो मैंने उसके मालिक को दिया कि भईया आप दे दो, ये आपके हाथ से खा लेगा, फिर वो मालिक ने उसको दिया, वो खा गया, तो इसमें इश्यू क्‍या है? बीजेपी के लोगों को कुत्तों से ऑब्‍सेशन क्‍या है, कुत्तों ने उनका क्‍या बिगाड़ा है?’

कांग्रेस और इंडिया गठबंधन की सरकार बनने के बाद उनका काम क्या होगा, इस सवाल के जवाब में श्री गांधी ने कहा- ‘नोटबंदी ने, जीएसटी ने इन लोगों को खत्म कर दिया है। तो जो रोजगार क्रिएट करते थे, जो देश को रोजगार देते थे, उनको नरेंद्र मोदी जी ने, अडानी जी ने नोटबंदी, जीएसटी लागू करके खत्म कर दिया है। तो हम सबसे पहले जीएसटी को बदलेंगे, ठीक है। नोटबंदी के बारे में हम कुछ नहीं कर सकते हैं, वो तो नरेंद्र मोदी जी ने कर दिया है। तो जीएसटी को बदलेंगे। उसके बाद हम एक नया फाइनेंशियल प्लान, स्मॉल और मीडियम बिजनेस के लिए लागू करेंगे और उसमें हमारा फोकस होगा कि पिछड़े वर्ग के लोग, दलित वर्ग के लोग, आदिवासी वर्ग के लोग, गरीब लोगों को फुल बेनिफिट मिले।’

लंच ब्रेक के बाद सिमडेगा से न्याय यात्रा वापस शुरू हुई और झारखंड ओडिशा सीमा की ओर चल पड़ी। इसी बीच भारत जोड़ो न्याय यात्रा की बस में कुछ महिलाओं का ग्रुप श्री गांधी से मिलने आया। महिलाओं के इस ग्रुप ने मनरेगा श्रमिकों की कठिनाइयों के बारे में विस्तार से चर्चा की। उन्होंने श्री गांधी को बताया कि कैसे सिमडेगा के इलाकों में मनरेगा के श्रमिकों को काम नहीं मिल रहा है। इतना ही नहीं जिनसे काम करा लिया गया है उनको एक साल से मजदूरी नहीं दी गई है। इन इलाकों में महिलाओं की स्थिति तो और भी दयनीय है कि उन्हें कोई काम ही नहीं देता। श्री गांधी ने उन्हें इसका समाधान करने का आश्वासन दिया।

झारखंड-ओडिशा की सीम पर बीरमित्रपुर में शाम के ब्रेक और राष्ट्रीय ध्वज हस्तांतरण के लिए भारत जोड़ो न्याय यात्रा रूकी। यहां एक कार्यक्रम में झारखंड के प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष ने ओडिशा के प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष को राष्ट्रीय ध्वज सौंपा। ध्वज हस्तांतरण के बाद श्री गांधी ने हजारों की संख्या में उपस्थित जनता को संबोधित किया।

जनता को संबोधित करते हुए श्री गांधी ने कहा- ‘मैं चाहता था कि ये भी पैदल यात्रा हो, लेकिन ये चुनाव का समय है तो पार्टी ने कहा कि ये यात्रा बस और जीप से होगी। इस यात्रा का भी वही लक्ष्य है, भारत को जोड़ने का लक्ष्य है।’

इस संबोधन के बाद भारत जोड़ो न्याय यात्रा रात्रि विश्राम के लिए पानपोष, ओडिशा की तरफ निकल पड़ी।

“देश का कोई भी व्यक्ति, जो अपने ऊपर अन्याय महसूस कर रहा है, जिसके ऊपर किसी भी तरह का अन्याय हो रहा है, वो न्याय योद्धा बन सकता है। अगर आप भी न्याय योद्धा बनना चाहते हैं तो 9891802024 पर मिस्ड कॉल करें।”

शेयर करें

Comments (1)

  1. Tasha

    Thanks for finally talking about > Day 24: Rahul Gandhi Assures A
    New Financial Plan And GST Reform – Nyay News expert

एक टिप्पणी छोड़ें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *