Day 19: बीड़ी श्रमिकों की न्याय यात्रा से न्याय की आस

सुजापुर, मालदा से भारत जोड़ो न्याय यात्रा आज फिर उसी जोश से शुरू हुई। यात्रा की शुरूआत में श्री राहुल गांधी बस से न चलकर जीप पर सवार हुए। हजारों लोगों के काफिले के साथ यात्रा ऐतिहासिक फरक्का बैराज के ऊपर से गुजरी। फरक्का बैराज बंगाल और बांग्लादेश की सीमा से सिर्फ 10 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। इस बैराज का निर्माण 1961 में शुरू हुआ था। और 1975 में तात्कालीन प्रधानमंत्री श्रीमती इंदिरा गांधी ने इसे जनता के सुपुर्द किया था। इस बैराज में 109 गेट हैं जो भागीरथी-हुबली में नौगमन के मार्ग को प्रशस्त रखते हैं। कलकत्ता के पत्तन के लिए फरक्का बैराज एक वरदान है। कांग्रेस महासचिव श्री जयराम रमेश ने मां गंगा का विहंगम वीडियो पोस्ट करते हुए अपने एक्स (ट्विटर) पर फरक्का बैराज के बारे में लिखा है।

यात्रा के रास्ते में श्री गांधी बीड़ी बनाने वाली एक छोटी सी फैक्ट्री के सामने रूके। उन्होंने वहां बीड़ी बनाने वाली महिलाओं से बातचीत की। उनकी परेशानियों को जाना, उनकी बातें सुनी। यहां तक की कांग्रेस महासचिव श्री जयराम रमेश और श्री गांधी ने बीड़ी बनाने में भी अपना हाथ आजमाया।

दोपहर के ब्रेक के लिए यात्रा रघुनाथगंज में रूकी। यहां भी लोगों का हुजूम भारत जोड़ो न्याय यात्रा के स्वागत के लिए मौजूद था। इसके बाद दोपहर के भोजन के लिए न्याय यात्रा का काफिला पियारापुर, जंगीपुर में रूका। लंच ब्रेक के दौरान कांग्रेस के महासचिव श्री जयराम रमेश ने संवाददाता सम्मेलन को संबोधित किया। इसमें उन्होंने साफ किया कि बंगाल में इंडिया गठबंधन मजबूती से बीजेपी के खिलाफ खड़ा है।

श्री रमेश ने कहा कि- ‘इंडिया गठबंधन 2024 के लोकसभा चुनाव में एक महत्व रखता है। पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ने बार बार कहा है कि वो इंडिया गठबंधन में हैं और रहेंगी। और कांग्रेस इस बात का समर्थन करती है। तृणमूल कांग्रेस पार्टी और कांग्रेस दोनों ही बीजेपी को हराना चाहती है। बंगाल में अभी बीजेपी की 18 सीट है, हम उसको घटाकर 0 करना चाहते हैं। इसलिए ही इंडिया गठबंधन बना है।’

लंच ब्रेक के बाद यात्रा लालगोला नेताजी मोड़, मुर्शिदाबाद से आगे बरहामपुर के लिए निकली। बरहामपुर, प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष श्री अधीर रंजन चौधरी का संसदीय क्षेत्र है। यहां पर जनता ने कांग्रेस के नेता श्री राहुल गांधी के स्वागत में सड़क के दोनों ओर मानवशृंखला बना लिया। हर तरफ लोग ही लोग। लोगों का हुजूम इतना की न्याय यात्रा के काफिले को चलने की जगह नहीं। सुरक्षाकर्मियों के लिए उस अप्रत्याशित भीड़ को संभालना परेशानी का सबब बन गया। लेकिन धीरे धीरे लोगों से मिलते-जुलते यात्रा रात्रि विश्राम के लिए नबाग्राम किशोर संघ ग्राउंड की तरफ बढ़ती रही। न्याय यात्रा के काफिले के रात्रि विश्राम की व्यवस्था यहीं की गई थी।

“देश का कोई भी व्यक्ति, जो अपने ऊपर अन्याय महसूस कर रहा है, जिसके ऊपर किसी भी तरह का अन्याय हो रहा है, वो न्याय योद्धा बन सकता है। अगर आप भी न्याय योद्धा बनना चाहते हैं तो 9891802024 पर मिस्ड कॉल करें।”

शेयर करें

एक टिप्पणी छोड़ें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *