भारत जोड़ो न्याय यात्रा का आगाज़

भारत जोड़ो न्याय यात्रा का आगाज़।

कुल 66 दिनों में 'भारत जोड़ो न्याय यात्रा' मणिपुर के थौबल जिले से शुरू होकर 6,713 किलोमीटर की दूरी 100 लोकसभा और 337 विधानसभा निर्वाचन क्षेत्रों तथा 110 जिलों से गुजरते हुए 20 मार्च को मुंबई में समाप्त होगी।

दिल्ली में घने कोहरे की वजह से कांग्रेस पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री मल्लिकार्जुन खरगे, कांग्रेस नेता श्री राहुल गांधी समेत कांग्रेस के कई दिग्गज नेताओं को दिल्ली से इंफाल ला रही स्पेशल फ्लाइट देर से पहुंची। इस कारण यात्रा की शुरूआत का सारा शेड्यूल बिगड़ गया। लेकिन खैर, देर से ही सही पर जब श्री राहुल गांधी इंफाल पहुंचे तो उनके समर्थकों का उत्साह दोगुना हो गया। एयरपोर्ट पर समर्थकों की भारी भीड़ ने उनका स्वागत किया। एयरपोर्ट से निकल कर सड़क के रास्ते श्री राहुल गांधी सीधा खोंगजोम वॉर मेमोरियल पहुंचे जहां से यात्रा की शुरूआत होनी थी। वॉर मेमोरियल पर भी समर्थकों का हुजूम कांग्रेसी नेताओं और राहुल गांधी का बेसब्री से इंतजार कर रहा था। कार्यक्रम स्थल पर पहुंचकर श्री राहुल गांधी ने वीर शहीदों को पुष्पांजलि अर्पित की।

Commenced Bharat Jodo Nyay Yatra, today, by offering my heartfelt tributes to the courageous martyrs of Manipur at the Khongjom War Memorial Complex. The extraordinary bravery and sacrifice of those who fought valiantly against the British for freedom and honor continues to inspire us till today. Their legacy motivates us to work tirelessly towards preserving peace and justice in our country.

Posted by Rahul Gandhi on Sunday, January 14, 2024

मौके पर उपस्थित हजारों समर्थकों को कांग्रेस अध्यक्ष श्री मल्लिकार्जुन खरगे जी ने संबोधित किया। श्री खरगे ने सबसे पहले वहां उपस्थित लोगों से देरी से आने के लिए माफी मांगी और फिर भारत जोड़ो न्याय यात्रा के बारे में बताया। उन्होंने केंद्र सरकार पर हमला करते हुए कहा कि- ‘केंद्र सरकार कि कथनी और करनी में बहुत फर्क है। मई महीने में मणिपुर में जो दुर्भाग्‍यपूर्ण घटना घटी और आज भी घट रही है उस पर हमारे पीएम को बात करने की फुरसत नहीं है।

मोदी जी कभी समुद्र में स्‍विमिंग करने का फोटो सेशन शेयर करते हैं, तो कभी मंदिरों के बनने की फोटो शेयर करते हैं। कभी केरल तो कभी बंबई में जाने का समय निकाल लेते हैं। हर जगह जाकर ये अपने नए-नए वस्‍त्र में फोटोशूट कराते हैं। लेकिन मणिपुर जाना तो छोड़िए, मणिपुर के बारे में बात करने का भी समय नहीं मिल पा रहा है इनको। मणिपुर में लगातार निर्दोष लोगों की हत्या हो रही है, महिलाओं के साथ दरिंदगी की खबरें आ रही है, ठंड से लोग वहां बेहाल हैं लेकिन फिर भी हमारे पीएम वहां उनका हाल-चाल पूछने के लिए नहीं जा रहे हैं। क्‍यों, क्‍या वो देश का हिस्‍सा नहीं हैं? आप लक्षद्वीप में जाकर फोटो शूट करा सकते हो, क्‍या आप मणिपुर जाकर लोगों को समझा नहीं सकते? मुंह में राम बगल में छुरी जैसा काम केंद्र सरकार कर रही है।’

श्री खरगे ने आगे कहा कि- भारत जोड़ो न्याय यात्रा इसी जन जागृति के लिए निकाली जा रही है। केंद्र सरकार जिस तरह से राष्‍ट्रीय समस्‍याओं को लेकर गैर जिम्‍मेदाराना रवैया अपना रही है, जिस असंवेदनशीलता से काम कर रही है, उस पर ही राष्‍ट्रीय चर्चा, संवाद, राहुल जी की यात्रा में होगी। ठीक वैसे ही जैसे पहले भारत जोड़ो यात्रा में हुई थी। इसके बाद श्री राहुल गांधी ने लोगों को संबोधित किया। अपने भाषण के शुरूआत में उन्होंने वहां उपस्थित लोगों से देरी से आने के लिए माफी मांगते हुए कहा कि ‘कोहरे के कारण फ्लाइट में देर हो गई जिस वजह से हमें देर हो गई। लेकिन आप सभी धैर्य के साथ हमारा इंतजार करते रहे इसके लिए यहां उपस्थित सभी लोगों का मैं तहे दिल से शुक्रिया करता हूं।’

यात्रा के बारे में बताते हुए श्री राहुल गांधी ने जनता को बताया कि- ‘भारत जोड़ो न्याय यात्रा का ज्यादातर हिस्सा बस से पूरा किया जाएगा। 2024 के लोकसभा चुनाव की वजह से हमने बस से यात्रा करने का फैसला किया है।’

श्री गांधी ने आगे कहा कि- बीजेपी की नफरत, आरएसएस की नफरत, उनके दृष्टिकोण का मणिपुर एक चिन्ह है। बीजेपी के लिए मणिपुर देश का हिस्सा ही नहीं है। मणिपुर के लोगों के जीवन में इतनी बड़ी दुर्घटना हो गई है लेकिन पीएम अभी तक मणिपुर नहीं आए हैं। मणिपुर का दर्द पीएम को नहीं दिखता है। इसलिए ही हमने इस यात्रा को मणिपुर से शुरू करने का फैसला किया है।’

‘कांग्रेस पार्टी आपके दुख, दर्द और पीड़ा को समझती है। हम आपके राज्य और जीवन में वो शांति और सौहार्द वापस लाएंगे जिसे आप लोगों ने खो दिया है। ये यात्रा सामाजिक, राजनीतिक और आर्थिक अन्याय के खिलाफ है। सिर्फ मणिपुर में ही नहीं पूरे देश में ये अन्याय किया जा रहा है। बेरोजगारी, महंगाई पूरे देश के लोगों की कमर तोड़ रही है। दलित, आदिवासियों का देश में कोई सुनने वाला ही नहीं। इसी नियम को हम तोड़ेंगे। हमारा लक्ष्य है आपको सुनना, आपका दर्द समझना। हिंदुस्तान के शांति और भाईचारे के विजन को हम देश के सामने रखना चाहते हैं।’

इसके बाद कांग्रेस अध्यक्ष श्री मल्लिकार्जुन खरगे ने श्री राहुल गांधी को राष्ट्रीय ध्वज पकड़ा कर यात्रा के शुरूआत की घोषणा की। श्री राहुल गांधी के साथ बस से यात्रा की शुरूआत करने वाले सबसे पहले सहयात्रियों में कुछ छोटी बच्चियां थीं। ये बच्चियां मणिपुर में रिफ्यूजी कैंप में रहती हैं। 3 मई 2023 से मणिपुर में शुरू हिंसा ने इन बच्चियों से उनका घर, परिवार सबकुछ छीन लिया है। हिंसा के शुरू होने के बाद से ये बच्चियां कैंप में ही रहने को मजबूर हैं क्योंकि अब इनके पास न तो घर है न ही परिवार। राहुल गांधी जैसे ही बस पर चढ़े उन नन्हे-नन्हे हाथों ने अपने टिकट कांग्रेस अध्यक्ष श्री मल्लिकार्जुन खरगे और श्री राहुल गांधी को सौंप दिया। उन बच्चों के चेहरे पर मुस्कान और आँखों में उज्जवल भविष्य की आस थी।

“देश का कोई भी व्यक्ति, जो अपने ऊपर अन्याय महसूस कर रहा है, जिसके ऊपर किसी भी तरह का अन्याय हो रहा है, वो न्याय योद्धा बन सकता है। अगर आप भी न्याय योद्धा बनना चाहते हैं तो 9891802024 पर मिस्ड कॉल करें।”

शेयर करें

एक टिप्पणी छोड़ें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *